Tuesday, September 26, 2023
HomeCOCOMO Stands For? कोकोमो क्या है SRS
Array

COCOMO Stands For? कोकोमो क्या है SRS [2022]

COCOMO Stands For? कोकोमो क्या है SRS [2022]

COCOMO Stands For ?:किसी भी सॉफ्टवेयर Project की शुरुआत से पहले, अलग-अलग फेक्टर को ध्यान में रखा जाता है। ये फेक्टर तय करते हैं कि प्रोजेक्ट के डेव्लपमेंट कैसे आगे बढ़ेगा, प्रोडक्ट को कैसे तैयार किया जाएगा, और इसमें कोन-कोनसे रिस्क शामिल हैं।

इन फेक्टरस में से एक समय और लागत (Cost) शामिल हैं। यह जानना भी महत्वपूर्ण होता है कि प्रोडक्ट के तैयार होने में कितना समय लगेगा। उत्पाद के बनने के दौरान लागत भी बहुत महत्वपूर्ण रोल निभाती है।

इसे ही ध्यान में रखते हुए 1981 में, Boehm ने एक मॉडल – COCOMO मॉडल (रचनात्मक लागत अनुमान मॉडल) प्रस्तावित किया, जो किसी भी प्रोडक्ट को उसके साइज के आधार पर पूरा करने के लिए जरूरी लागत और प्रयास का अनुमान लगाने के लिए था। यह मॉडल बहुत ज्यादा सटीक नहीं था लेकिन फिर भी एक अच्छा अनुमान लगाने में मदद करता है और इसे अभी भी इस्तेमाल किया जाता है,[COCOMO Stands For]

Cocomo Stand For Constructive Cost Model
COCOMO Stands For?

यहां पर आपको बताया जाएगा कि कोकोमो (COCOMO ) Modal क्या है? और इसके Type क्या है? [COCOMO Stands For?]

COCOMO Stands For? कोकोमो क्या है SRS [2020]
COCOMO Stands For? कोकोमो क्या है SRS [2022]

COCOMO STANDS FOR WHAT ? Eng. & Hindi

कोकोमो एक मॉडल है जो सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग में काम आती है

Cocomo Stand For
Constructive Cost Model
कोकोमो Stand For रचनात्मक लागत अनुमान मॉडल
COCOMO STANDS FOR

कोकोमो (COCOMO ) Modal क्या है?

Barry Boehm ने 1981 में COCOMO (रचनात्मक लागत अनुमान मॉडल) प्रस्तावित किया। COCOMO दुनिया में सबसे ज्यादा इस्तेमाल किए जाने वाले सॉफ़्टवेयर Forcast मॉडल में से एक है।

COCOMO या “Constructive Cost Model” एक ऐसा मॉडल है जो Sourse कोड की साइज के आधार पर मॉडल को पूरा करने में लगने वाले प्रयास और समय का अनुमान लगाता है। इसमें प्रोजेक्ट की अलग-अलग विशेषताओं से 15X गुना फेक्टर शामिल हैं, और अंत में इन सब जानकारी का उपयोग करके समय और प्रयास की गणना की जाती है।–COCOMO Stands For

COCOMO मॉडल पहले सॉफ्टवेयर को उसके आकार के हिसाब से विभाजित करता है। आइए पहले समझते हैं कि प्रत्येक सॉफ्टवेयर का कैसे विभाजन किया जाता है।

COCOMO Stands For?

COCOMO Model Strategies Into 3 Categories

कोकोमो मॉडल में सॉफ्टवेयर प्रोजेक्ट कि Strategies को 3 श्रेणियों में बांटा गया है, Organic, Semi-detached और Embedded

  1. Organic
  2. Semi-detached
  3. Embedded

1. Organic

एक Development प्रोजेक्ट को Organic Type तब माना जा सकता है, जब प्रोजेक्ट छोटा और सरल हो।
पूर्व-अनुभव के साथ प्रोजेक्ट की टीम भी छोटी हो।
समस्या अच्छी तरह से समझी गई है और पहले भी हल की गई हो।

2. Semi-detached

एक प्रोजेक्ट को सेमी-डिटैच्ड टाइप का माना जा सकता है यदि डेवलपमेंट में अनुभवी और अनुभवहीन कर्मचारियों दोनों ही हो। टीम के सदस्यों को संबंधित प्रणालियों में सीमित अनुभव हो सकता है, प्रोजेक्ट जटिल हो। इसमें ऑर्गेनिक मोड और एम्बेडेड मोड दोनों के तत्व भी शामिल हैं।[COCOMO Stands For]

सेमी डिटैच्ड सिस्टम के उदाहरण में एक नया ऑपरेटिंग सिस्टम (OS), एक डेटाबेस मैनेजमेंट सिस्टम (DBMS), और जटिल इन्वेंट्री मैनेजमेंट सिस्टम विकसित करना शामिल है।

3. Embedded

एक सॉफ्टवेयर प्रोजेक्ट को एक एम्बेडेड प्रकार का तब माना जाता है, यदि बनाया जा रहा सॉफ़्टवेयर जटिल हार्डवेयर के साथ जुड़ा हुआ है, या यदि इसको चलाने पर पर कड़े नियम हो। ऐसे सॉफ़्टवेयर के लिए अन्य दो मॉडलों की तुलना में एक बड़ी टीम की आवश्यकता होती है।

Facebook Reels video download kaise kare । फेसबुक रील्स वीडियो डाउनलोड कैसे करे, आसान तरीके से [2022]

कोकोमो मॉडल के प्रकार/ Type Of COCOMO

COCOMO में तीन रूपों की श्रेणीबद्ध है। तीन रूपों में से कोई भी हमारी आवश्यकताओं के अनुसार अनुकूलित किया जा सकता है। ये COCOMO मॉडल के प्रकार हैं: [COCOMO Stands For?]

Types-of-COCOMO-Models-HINDIBURNER
Types-of-COCOMO-Models-HINDIBURNER
  1. Basic COCOMO Model/सामान्य कोकोमो मॉडल
  2. Intermediate COCOMO Model/मध्‍यवर्ती कोकोमो मॉडल
  3. Detailed COCOMO Model/सीमाएं कोकोमो मॉडल

1. Basic COCOMO Model/सामान्य कोकोमो मॉडल

बेसिक कोकोमो मॉडल:यह मॉडल गणना पर आधारित है, इस प्रकार इसमें बहुत सीमित सटीकता है। संपूर्ण मॉडल की गणना का अनुमान लगाने के लिए Source Code की पंक्तियों पर आधारित है

शुरुआती स्तर, बेसिक कोकोमो का उपयोग सॉफ्टवेयर लागतों की त्वरित गणना के लिए किया जा सकता है। मूल COCOMO अनुमान के मॉडल निम्नलिखित द्वारा दिया गया है:

E = ax (KLOC)b
D = c x (Effort)d
P = effort/time

Where / जहा पर,

E is effort applied in person-months.
D is development time in months.
P is the total no. of persons required to accomplish the project.

2. Intermediate COCOMO Model/मध्‍यवर्ती कोकोमो मॉडल

मुख्य कोकोमो मॉडल मानता है कि प्रयास केवल कोड की पंक्तियों की संख्या का एक कार्य है और विभिन्न सॉफ्टवेयर सिस्टम के अनुसार कुछ स्थिरांक का मूल्यांकन किया जाता है। हालांकि, वास्तव में, किसी भी सिस्टम के प्रयास और शेड्यूल की गणना केवल लाइन ऑफ कोड (LOC) के आधार पर नहीं की जा सकती है।

Effort (E) = a*(KLOC)b *EAF PM
D = c x (Effort)d

उसके लिए, विश्वसनीयता, अनुभव, क्षमता जैसे कई अन्य Fector। इन फेक्टर्स को लागत के रूप में जाना जाता है और Intermediate COCOMO लागत अनुमान के लिए ऐसे 15 ड्राइवरों का उपयोग करता है। कोस्ट का वर्गीकरण और उनकी विशेषताएँ:

(i) उत्पाद विशेषताएँ –

  • आवश्यक सॉफ़्टवेयर विश्वसनीयता सीमा
  • एप्लिकेशन डेटाबेस का आकार
  • उत्पाद की जटिलता

3. Detailed COCOMO Model/विस्तृत कोकोमो मॉडल

Detailed/विस्तृत मॉडल या Complete मॉडल में मूल मॉडल और मध्यवर्ती मॉडल दोनों के सभी Fector शामिल होते हैं। प्रत्येक लागत ड्राइवर संपत्ति के लिए विस्तृत मॉडल में, विभिन्न प्रयास गुणकों का उपयोग किया जाता है।

पूरे सॉफ्टवेयर को छोटे-छोटे चरणों में विभाजित किया जाता है और फिर उन पर COCOMO गणना या मॉडल लागू किया जाता है। तब प्रयास का अनुमान लगाया जाता है और फिर प्रयासों के योग की गणना की जाती है।

DetailedAdvanced-COCOMO-model-HINDIBURNER
DetailedAdvanced-COCOMO-model-HINDIBURNER

सॉफ्टवेयर को 6 अलग-अलग चरणों में बांटा गया है-

  1. योजना और आवश्यकताएं
  2. सिस्टम स्ट्रक्चर
  3. एकीकरण और टेस्ट
  4. लागत रचनात्मक मॉडल
  5. पूर्ण संरचना
  6. मॉड्यूल कोड और टेस्ट

COCOMO Model की सीमाएं ?

  • प्रोजेक्ट के शुरूआती दौर में KDSI का अनुमान लगाना लगभग कठिन होता है
  • KDSI, वास्तव में, कोई साइज का माप नहीं है, बल्कि यह एक लंबाई माप है।
  • सफलता काफी हद तक हिस्ट्री डेटा के डेटा पर निर्भर करती है
  • यह सॉफ्टवेयर लागत की सटीकता को सीमित करता है।
  • इसमें कस्टमर को कौशल, सहयोग और ज्ञान की भी आवयश्कता है।

COCOMO Model के Advantage

  • COCOMO ट्रांसपरेंट है, कोई यह देख सकता है कि यह SLIM जैसे अन्य मॉडलों के विपरीत कैसे काम करता है
  • प्रोजेक्ट लागत को प्रभावित करने वाले विभिन्न Fectors के प्रभाव को समझने के लिए ड्राइवर विशेष रूप से अनुमान के लिए सहायक होते हैं।
  • कोकोमो, हिस्ट्री परियोजनाओं के बारे में आईडिया/विचार प्रदान करता है।
  • COCOMO Model से परियोजना की कुल लागत का अनुमान लगाना बहुत आसान है।

CONCLUSION

आशा है की अब आप COCOMO Stands For? की इस Query तथा COCOMO क्या होता है जान गए होंगे।
अगर फिर भी कोई प्रश्न या राय है तो आप कमेंट के द्वारा बता सकते है या आप हमे [email protected] पर ईमेल भी कर सकते है

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments